Friday, January 25, 2019

तेरी याद ने



तेरी याद ने अजीब सा वीराना कर दिया
    हर खुशी को लबों से कहीं जाना कर दिया।

1. ढोया कंधों पे उठाके, जैसे तैसे समझा के,
     पर होंसला न माना, रोया हर कोने जा के,
     कहाँ जिंदगी थी गीत कहाँ ताना कर दिया।
    तेरी याद...

2. करवटें हुई सूनी तू है खोया जब से,
     तू क्या रूठा यारा , रूठ गया रब तब से,
     हर आह के लिए ये दिल निशाना कर दिया।
     तेरी याद...

3. कोई शिक़वा या शक्क, रत्ती भर न था बेशक़्क़,
      फिर भी लौटे नहीँ आप, लौटे पक्षी घरों तक,
     तूने खुद कहाँ खुद को रवाना कर दिया।
     तेरी याद...

No comments:

Post a Comment