Sunday, February 10, 2019

एक ख़त 💌 तेरे नाम लिखूं

    
     

       एक ख़त 💌 बिना अल्फ़ाज मैं तेरे नाम लिखूं,
    जो ढ़ले कभी न ऐसी तुमको 😊शाम लिखूं,

1. बड़ी हसरत तुमको पाऊँ 🌹पूरे का पूरा,
     हर ख़्वाब जुड़ा 💏जो तुमसे रहे क्यों अधूरा,
     तुम्हें अमृत गंगा जल 💧या मीठा ज़ाम🍷लिखूं।
     एक ख़त...

2 .रहूँ चुप या कह दें या यूं😚 ही सब चलता रहे,
     तेरा सामने होकर छुपना यूँ ही खलता रहे,
     हो धर्म कर्म से दूर💝 वो सीता राम लिखूं।
     एक ख़त...

3. तेरे आस पास 💗की भीड़ कभी कम होगी गर,
      फिर बतलाएँगे रह गए बन के जोगी भर,
     तेरा दरस को परम् तपस्या 💞मुक्ति धाम लिखूं। 

एक ख़त 💌 बिना अल्फ़ाज मैं तेरे नाम🌹 लिखूं,
    जो ढ़ले कभी न ऐसी तुमको 😊शाम लिखूं,
     
🍬🍭💖 💏🌹🌹🐻🍹🍫🍫💖 🎉🍭🍬
  
Happy Promise Day

4 comments: