Thursday, February 14, 2019

आज बहा फिर रक्त💉वीरों👮का




आज बहा फिर रक्त💉वीरों👮का,धरती 🌏फिर कुरलाई है,
फिर से लुटे सिंदूर🔴मांग से,चारों और दुहाई😓😓 है,
फटा भयंकर जिगर💗में लावा🌋दधक उठी पुरवाई है,
फ़न🐍कुचलना होगा ही अब, विषाक्त🦂सुखानी खाई है,
वीरभद्र
💪हनुमानशिवा जी🏹, देश पे🇮🇳अब बन आयी है,
कहाँ गदा की मार✨तुम्हारी, गर्जन💥कहाँ छुपाई है,
रावण 👹के भी बाप हैं ये सब, सीता जी🌳घबराई है,
फिर भी लंका नहीं जली🔥तो, काहे की प्रभुताई🙏है,
कूड़े को अब साफ़💣ही कर दो, पर्वत 🌄है या राई है,
कर आराधना🙏चंड़ी की अब, लड़नी शिखर🏔लड़ाई है
नारी👩भी अब रौद्र हो उठी,काली दुर्गा माई है। 

1 comment:

  1. sabke dil ke yahi udgar hain....very touching

    ReplyDelete