Tuesday, February 5, 2019

हंसी 😊गुलाब 🌹ने आपसे उधारी ली है

हंसी 😊गुलाब 🌹ने आपसे उधारी ली है,
मेरे कत्ल की मानों सुपारी ली है,
ये लाली ये कोमलता 🌹🌹और ये खुशबू,
छटाँक भर नहीं बल्कि ढेर सारी ली है।

तू ताज़ा सी है गुलाब 🌹की तरह,
हया से ढंकी है हिज़ाब की तरह,
हर पंखुड़ी
🌹🌹🌹पे तेरा असर है शायद,
लाल सुर्ख हैं सब शराब की तरह।
  
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 
Happy Rose Day


1 comment: