Thursday, March 21, 2019

धरती🌏करे पुकार बचाओ



ओ मेरी संतानो👪मुझ पर इतना कहर💥न ढाओ,
बढ़ रहा प्रदूषण💨धरती🌏करे पुकार बचाओ,

जल💧स्रोतों में तुमने मैला🍂खूब बहाया,
पीकर दूषित🍺जल बीमार पड़ रही तुमरी काया,
घुट न जाए कहीं दम तुम्हारा न🌑प्रदूषण फैलाओ।
ओ मेरी संतानो मुझ पर... 

जल 🌄थल चारों और गंदगी🎃क्यों  फैला रहे हो,
मैं स्वस्थ🌏तो जीवित💗हो तुम यह बात भुला रहे हो ,
स्वार्थ त्यागकर कभी बैठकर सोचो😳मन समझाओ। 
 ओ मेरी संतानो मुझ पर... 

अपने तुच्छ स्वार्थ हित क्यों काट रहे तुम🌳🌴वन,
अपनी ही मौत 🍂को तुम दे रहे हर पल निमंत्रण,
गर चाहो तुम चैन से जीना💞नित नए वृक्ष🌲🌿लगाओ। 

ओ मेरी संतानो👪मुझ पर इतना कहर💥न ढाओ,
बढ़ रहा प्रदूषण💨धरती🌏करे पुकार बचाओ,

💦💧💨💗💕🌳🌲🌴🌾🌿🍀🍁🍃🌏🌄🌈


 

1 comment: