Friday, March 22, 2019

राजगुरु सुखदेव भगत से चंद ही जिगर💕होते

वो तीन सपूत👳‍👨🏻‍🎤🤵🏻जो फिर होते,
दुश्मनों😡के धड़ नहीं सिर होते।
राजगुरु सुखदेव भगत से,
बस चंद ही और जिगर💕होते।

वो फंदा➰था कोई झूला ना पर झूल गए ,
हमें याद बहुत कुछ पर वो घटना भूल गए,
वो चरण👣अदृष्य रणक्षेत्र में जो थिर👍🏻होते।
राजगुरु सुखदेव...

दम खम💪🏻डोलों में जितना था सब झोंका ,
इसीलिए तो कील📍था माथे में ठोंका,
बाकी भाषण🎤तो जितने भी सब बेसिर होते।
राजगुरु सुखदेव...

कोई लाल💎जने जननी ऐसे तो बात बने,
फिर हर अमावस्या⚫पुर्णिमा सी🌝रात बने,
आज़ाद🦅होंसले काश कुछेक निड़र🇮🇳 होते।

वो तीन सपूत👳‍👨🏻‍🎤🤵🏻जो फिर होते,
दुश्मनों😡के धड़ नहीं सिर होते।
राजगुरु सुखदेव भगत से,
बस चंद ही और जिगर💕होते।

No comments:

Post a Comment