Sunday, May 12, 2019

ममतामयी जब गोद🤱🏻 मिली

सब देव दानव आँचल 🧕के तले , 
ऋषि योद्धा और अवतार पले ।
वह ममतामयी जब गोद🤱🏻 मिली,
तब जाकर जीवन कली🌷 खिली ।

हर ठोकर पर तेरा थाम👩‍👦 लेना ,
हर बात पे जय श्री राम🏹लेना।
मेरा संबोधन तो और है कुछ,
पर अबलु डबलू🥳 नाम लेना।
तेरी डांट प्यारी शहद 👌सी है,
सदा खाऊँ आजीवन इच्छा दिली❤।

तुझे छोड़😌 शहर जब से आया,
ना दाल भात 🍚तब से खाया।
है भोग छप्पन एक तू ही नहीं,
सब फीका फीका🍂 जो पाया।
कोई पूछे न तू थका सा क्यूँ ,
क्यूँ हँसी पुत्र तेरी सिली सिली।

हैं झुर्रियाँ👵🏻अब तो मुखड़े पे,
करूँ बात मैं किस किस दुखड़े पे।
वो नथनी झुमका अब भी हैं,
पर ज़ोर कहाँ झुके कुबड़े पे।
मैं तब भी पर तेरे पास नहीं😌,
कहाँ जिंदगी 💚लेकर मुझे ठिली।

Happy Mother's Day

💝🧕🏻🌹💐🎂🎁🎊🎉🧸🎈

No comments:

Post a Comment